अलविदा 2020: अपराधियों को उनकी भाषा में दिया गया जवाब

वर्ष 2020 गुरुग्राम पुलिस के लिए उपलब्धियों से भरा साल रहा

गुरुग्राम: 34 इनामी बदमाश गिरफ्तार किए गए। वर्ष 2019 के अनुपात में सभी प्रकार के अपराध में भी कमी आई है। अपराधियों को उनकी भाषा में भी जवाब दिया गया यानी गोली चलाने का जवाब गोली चलाकर दिया गया। मुठभेड़ में दो अपराधी मारे भी गए। एक सीरियल किलर को भी गिरफ्तार किया गया। इसके बाद भी पिछले कुछ महीनों के दौरान घरों में चोरी की वारदात बढ़ी है। लोग घरों से बाहर कुछ देर के लिए निकलते हैं, उतनी ही देर में वारदात को अंजाम दे दिया जाता है। कैब में सवारी से लूट की वारदात पर अंकुश नहीं लग पाया है। नए साल के दौरान इन विषयों के ऊपर काफी काम करना होगा।

जिले में काफी संख्या में संगठित गिरोह सक्रिय थे। उनके खिलाफ इस साल चलाए गए आपरेशन का असर दिखा। कुल 62 गिरोहों के 159 आरोपितों को न केवल गिरफ्तार किया गया बल्कि 368 उदघोषित अपराधियों को भी गिरफ्तार किया गया। यही नहीं 93 बेल जंपर को काबू किया गया।

हालांकि इसके बाद भी कई वारदात ऐसी हुईं जिससे कानून-व्यवस्था की कमजोरी उजागर हुई। सेक्टर-9ए थाना इलाके में तिहरा हत्याकांड इसका सबसे बड़ा सबूत है। बदमाशों ने न केवल खाली प्लाट के साथ ही एक सोसायटी में घुसकर ताबड़तोड़ गोलियां चलाई थीं बल्कि गांव बसई में घुसकर एक को गोलियों से छलनी कर दिया था।

इसी तरह सेक्टर-65 थाना इलाके में साफ्टवेयर इंजीनियर पूजा शर्मा को बाइक सवार बदमाशों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी। पालम विहार इलाके में इंस्पेक्टर सोनू मलिक के ऊपर बदमाशों ने गोलियां चलाकर कानून-व्यवस्था को चुनौती दी थी। सभी मामले के आरोपित गिरफ्तार कर लिए गए लेकिन इस तरह की वारदात न हो, इसके लिए पुलिस को और अधिक सक्रियता दिखानी होगी।

खासकर अवैध हथियारों एवं शराब की तस्करी पर रोक लगाने के लिए काफी प्रयास करने होंगे। कोई ऐसा दिन नहीं जब हथियार एवं शराब तस्करी के आरोपित न पकड़े जाते हों। आवश्यकता है पूरे नेटवर्क को ध्वस्त करने की। सामाजिक कार्यकर्ता की तरह किया काम

कोरोना संकट में काफी पुलिसकर्मियों ने सामाजिक कार्यकर्ता की तरह काम किया। इससे पूरे देश में ही नहीं बल्कि विदेशों में भी गुरुग्राम पुलिस की चर्चा हुई। अपनी जिम्मेदारी निभाते हुए 100 से अधिक पुलिसकर्मी कोरोना संक्रमण की चपेट में आ चुके हैं लेकिन सक्रियता में किसी भी स्तर पर कमी नहीं। कुछ पुलिसकर्मियों ने भी अपने हाथों से मास्क बनाकर लोगों को बांटा। इस साल गिरफ्त में आए इनामी बदमाश

  • 13 फरवरी को पांच हजार का इनामी प्रिस उर्फ भोलू गिरफ्तार।
  • 17 फरवरी को पांच हजार का इनामी ब्रहमप्रकाश गिरफ्तार।
  • 18 मई को पांच हजार का इनामी बदमाश प्रीतम गिरफ्तार
  • 9 जून को पांच हजार का इनामी निसार उर्फ नस्सी गिरफ्तार।
  • 16 जून को 50 हजार का इनामी बदमाश शाहिद उर्फ पोलो गिरफ्तार।
  • 25 जून को 25 हजार का इनामी बदमाश इमरान गिरफ्तार।
  • 10 अगस्त को पांच हजार का इनामी बदमाश अनीश गिरफ्तार।
  • 24 अगस्त को पांच हजार का इनामी शहजाद गिरफ्तार।
  • 30 सितंबर को 25 हजार का इनामी बदमाश सोमबीर गिरफ्तार।
  • 10 नवंबर को 25 हजार का इनामी प्रवीण उर्फ पन्ना गिरफ्तार।
  • 13 नवंबर को पांच हजार का इनामी शिवराजपुरी गिरफ्तार।
  • 20 नवंबर को एक लाख का इनामी बदमाश पवन नेहरा गिरफ्तार।
  • 24 नवंबर को दो लाख का इनामी बदमाश रूपेंद्र उर्फ नन्हा गिरफ्तार।
  • 17 दिसंबर को पांच हजार का इनामी मुकेश कुमार गिरफ्तार।

(वैसे इस साल कुल 34 इनामी बदमाश गिरफ्तार किए गए) आपराधिक घटनाएं

वर्ष 2019 2020 कमी

हत्या 103 82 21 प्रतिशत

डकैती 17 11 35 प्रतिशत

गृह भेदन 569 322 43.4 प्रतिशत

छीनाझपटी 136 41 70 प्रतिशत

वाहन चोरी 4084 2658 35 प्रतिशत मुठभेड़ के बाद गिरफ्तारी

  • 20 अक्टूबर को कई मामलों में आरोपित सोमबीर उर्फ चांद गिरफ्तार।
  • 6 अक्टूबर को राजेश, अमन, कमल उर्फ कमली को गिरफ्तार किया गया।
  • 10 नवंबर को सत्येंद्र पाठक, रोहित उर्फ लंबू को गिरफ्तार किया गया।
  • 7 दिसंबर को गोविद, रोहित, मोहित एवं मामन को गिरफ्तार किया गया।

(कुल मिलाकर सात मुठभेड़ हुई) अपराधियों को उसकी भाषा में ही जवाब दिया जा रहा है। इससे आपराधिक घटनाओं में काफी कमी आई है। नए साल के दौरान भी इसी तरह पूरी सक्रियता के साथ पुलिस काम करेगी। जो बदमाश गिरफ्त से बाहर हैं, उनकी गिरफ्तारी पर जोर दिया जाएगा। महिला एवं बच्चों की सुरक्षा के ऊपर सबसे अधिक ध्यान रहेगा।

  • केके राव, पुलिस आयुक्त, गुरुग्राम

One thought on “अलविदा 2020: अपराधियों को उनकी भाषा में दिया गया जवाब

Leave a Reply

Your email address will not be published.