कुरुक्षेत्र के पत्रकार पर झूठी एफआईआर, मीडिया, राजनैतिक और सामाजिक संगठनों में उबाल

मीडिया को धमकाने पर बीजेपी सांसद नायब सैनी व विधायक सुधा के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने की मांग

कुरुक्षेत्र, पत्रकारों को मीडिया सैंटर में धमकी देने और एक पत्रकार के खिलाफ झूठे मामले में मुकदमा दर्ज करवाने के विरोध में कुरुक्षेत्र के सांसद और थानेसर के विधायक के खिलाफ पुलिस मुख्यालय पर मीडिया कर्मियों और राजनैतिक व सामाजिक संगठनों ने धरना दिया। इससे पूर्व सभी मीडिया कर्मी विरोध स्वरूव मीडिया सैंटर में एकत्रित हए और एक बैठक के बाद सांसद और विधायक द्वारा अपने नजदीकी द्वारा पत्रकार पर करवार्ई गई कार्रवाई की कडी निंदा की। साथ ही सभी पत्रकारों ने निर्णय लिया कि सांसद और विधायक द्वारा दी गई धमकी और मीडिया सैंटर में पत्रकारों को धमकी देने पर माफी न मांगने तक इनके समाचारों का बहिष्कार किया जाएगा।

प्रेस क्लब कुरुक्षेत्र के आह्वान पर पुलिस मुख्यालय के समक्ष कुरुक्षेत्र बार एसोसिएशन के अध्यक्ष गुरतेज सिंह शेखों, जनसंघर्ष मंच की नेत्री सुदेश कुमारी, अकाली दल के प्रदेश प्रवक्ता कवंलजीत सिंह अजराना, भाकियू नेता अक्षय हथीरा, जजपा नेता योगेश शर्मा, आम आदमी पार्टी के जिला प्रधान सुरेंद्र मित्तल, सुमित हिंदुस्तानी, सतीश ङ्क्षबदल, जवाहर गोयल, नगर पार्षद सुदेश चौधरी, केके गुप्ता, संदीप टेका, अमित शैंकी, पूर्व पार्षद नरेंद्र शर्मा निंदी, विवेक मैहता विक्की, सतीश गर्ग, कांग्रेस नेता लक्ष्मीकांत शर्मा व यूथ यूनिटी नैस्ट क्लब के मनीष सिंधवानी ने संबोधित किया। सभी ने पत्रकार पर फर्जी एफआईआर दर्ज करने की कडी निंदा की व सांसद व विधायक के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने की मांग की। भाकियू के अध्यक्ष गुरनाम सिंह चढूनी ने पत्रकार के विरूद्ध राजनैतिक दबाव में झूठा मुकदमा दर्ज किए जाने की कडी निंदा करते हुए इस संघर्ष में पूरा सहयोग देने की बात कही है।

धरने पर बैठे पत्रकारों और सामाजिक संगठनों के लोगों ने पुलिस अधीक्षक कार्यालय पर सांसद नायब सैनी, विधायक सुभाष सुधा के विरूद्ध 4 घंटे तक जमकर नारेबाजी की। उन्होने आरोप लगाया कि सत्ता के प्रभाव का गलत इस्तेमाल कर लोकतंत्र के चौथे स्तंभ का गला घोटने का प्रयास किया और इसे किसी भी सूरत में बर्दाश्त नही किया जाएगा। मीडिया कर्मियों ने चेतावनी दी कि यदि 24 दिसंबर तक पत्रकार के विरूद्ध दर्ज झूठा मुकदमा वापिस नही लिया गया तो मीडिया कर्मी अपने सभी संगठनों के साथ मिलकर मुख्यमंत्री के कुरुक्षेत्र में प्रस्तावित कार्यक्रम का विरोध करेंगें।


पत्रकारों ने बताया कि गत 19 दिसंबर को भाजपा के उपवास के दौरान सांसद और विधायक एक कार्यक्रम में जलपान करते देखे गए थे जिसका समाचार मीडिया में आया था। इस बात से खफा होकर सांसद और विधायक ने 21 दिसंबर को गीता जयंती के मौके पर स्थापति मीडिया सैंटर के उद्घाटन अवसर पर मौजूद पत्रकारों को सबक सीखाने की धमकी दी थी और उसी दिन सांयकाल को विधायक व सांसद के नजदीकी जाने वाले मार्किट कमेटी के पूर्व चेयरमैन सुरेश सैनी कुक्कू की शिकयत पर पत्रकार राजेंद्र स्नेही के विरूद्ध एक साल पुराने झूठे मामले में मुकदमा दर्ज कर लिया गया।

जिसके विरोध में मीडिया कर्मियों ने अन्य संगठनों के साथ मिलकर यह धरना दिया। मामले को तूल पकडता देख पुलिस प्रशासन हरकत में आया और दो डीएसपी भेजकर मामले को आश्वासन के बाद शांत करने का प्रयास किया लेकिन प्रदर्शनकारियों ने तुरंत प्रभाव से पत्रकार के खिलाफ एफआईआर रद्द करने व सांसद नायब सैनी व विधायक सुभाष सुधा के विरूद्ध धमकी देने के मामले में एफआईआर दर्ज करने की लिखित शिकायत मौके पर दी।

इस पर डीएसपी रविंद्र तोमर ने पत्रकारों की शिकायत रजिस्टर करने के बाद उसकी पावती प्रेस क्लब कुरुक्षेत्र को सौंपी और आश्वासन दिया कि पत्रकार के विरूद्ध दर्ज मुदकमे की बिना किसी राजनैतिक दबाव के निष्पक्ष जांच की जाएगी। इस मौके पर प्रेस क्लब के चेयरमैन राजेश शांडिल्य, प्रधान रामपाल शर्मा, महासचिव पंकज अरोड़ा, वाईस चेयरमैन कृष्ण धमीजा, संजीव राणा, वरिष्ठ उपप्रधान देवीलाल बारना, उपाध्यक्ष रणदीप रोड, अशोक यादव, दर्शन कैत, भारत साबरी, मीडिया वैल्फेयर क्लब के प्रधान बाबूराम तुषार व वरिष्ठ उपप्रधान जसबीर दुग्गल, वरिष्ठ पत्रकार प्रदीप आर्य, पिहोवा प्रेस क्लब के प्रधान सुभाष पोलत्स, सुरेश पाल राणा, कुलतार बुधवार, अजय जोली, सुनील धीमान ,सुभाष चंद सहित करीब 100 पत्रकारों ने भाग लिया।

2 thoughts on “कुरुक्षेत्र के पत्रकार पर झूठी एफआईआर, मीडिया, राजनैतिक और सामाजिक संगठनों में उबाल

Leave a Reply

Your email address will not be published.